Wednesday, February 09, 2011

परवीन शाकिर

हमारे दरमियाँ / परवीन शाकिर
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~
हमारे दरमियाँ ऐसा कोई रिश्ता नहीं था
तेरे शानों पे कोई छत नहीं थी
मेरे ज़िम्मे कोई आँगन नहीं था
कोई वादा तेरी ज़ंज़ीर-ए-पा बनने नहीं पाया
किसी इक़रार ने मेरी कलाई को नहीं थामा
हवा-ए-दश्त की मानिन्द
तू आज़ाद था
रास्ते तेरी मर्ज़ी के तबे थे
मुझे भी अपनी तन्हाई पे
देखा जाये तो
पूरा तसर्रुफ़ था
मगर जब आज तू ने
रास्ता बदला
तो कुछ ऐसा लगा मुझ को
के जैसे तूने मुझ से बेवफ़ाई की
=======================
ख़ुश्बू है वो तो / परवीन शाकिर
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~
ख़ुश्बू है वो तो छू के बदन को गुज़र न जाये
जब तक मेरे वजूद के अंदर उतर न जाये

ख़ुद फूल ने भी होंठ किये अपने नीम-वा
चोरी तमाम रंग की तितली के सर न जाये

इस ख़ौफ़ से वो साथ निभाने के हक़ में है
खोकर मुझे ये लड़की कहीं दुख से मर न जाये

पलकों को उसकी अपने दुपट्टे से पोंछ दूँ
कल के सफ़र में आज की गर्द-ए-सफ़र न जाये

मैं किस के हाथ भेजूँ उसे आज की दुआ
क़ासिद हवा सितारा कोई उस के घर न जाये

Monday, February 07, 2011

खलिश जावेद अख्तर

Mai paa saka na kabhi is khalish se chutkara
Wo mujhse jeet bhi sakta tha jaane kyo haara

Baras ke khul gaye hai aansu, nither gai hai fiza
Chamak raha hai sare-shaam dard ka taara

Kisi ki aankh se tapka tha ek amaanat hai
Meri hatheli rakha hua ye angaara

Jo par smete to ek shaakh bhi nahi pai
Khule the per to mera aasma tha saara

Wo saanp chor de dasna ye mai bhi kehta hu
Magar na chorenge log usko gar na funkaara.

Sunday, February 06, 2011

मुन्नवर राणा

मुनव्वर राना और शायरी

“मैं इक फकीर के होंठों की मुस्कुराहट हूँ
किसी से भी मेरी कीमत अदा नहीं होती "


"धुल गई है रूह लेकिन दिल को यह एहसास है,
ये सकूँ बस चंद लम्हों को ही मेरे पास है।"


"मेरी हँसी तो मेरे गमों का लिबास है
लेकिन ज़माना कहाँ इतना गम-श्नास है
हम न दिल्ली थे न मज़दूर की बेटी लेकिन
काफ़िले जो भी इधर आए हमें लूट गए
कच्चे समर शजर से अलग कर दिए गए
हम कमसिनी में घर से अलग कर दिए गए
मुझे सभांलने वाला कहाँ से आएगा
मैं गिर रह हूँ पुरानी इमारतों की तरह
ज़रा सी बात पर आँखें बरसने लगती थी
कहाँ चले गए वो मौसम चाहतों वाले
हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है
हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है।
मैं पटरियों की तरह ज़मी पर पड़ा रहा
सीने से गम गुज़रते रहे रेल की तरह"

बेबसी के आलम में भी वो खुद्दारी की बात करते है–

"चमक ऐसे नहीं आती है खुद्दारी के चेहरे पर
अना को हमने दो दो वक्त का फाका कराया है
दिल ऐसा कि सीधे किए जूते भी बड़ों के
ज़िद इतनी कि खुद ताज उठा कर नहीं पहना
मियां मै शेर हूँ शेरों की गुर्राहट नहीं जाती
मैं लहजा नरम भी कर लूँ तो झुंझलाहट नही जाती"

बुज़ुर्गों के बारे में वो बड़ी बेबाकी से एक तरफ कहते है–

"खुद से चलकर नहीं ये तर्ज़े सुखन आया है,
पांव दाबे है बुज़ुर्गों के तो फन आया है।
मेरे बुज़ुर्गों का साया था जब तलक मुझ पर
मैं अपनी उमर से छोटा दिखाई देता रहा।"

जबकि दूसरी ओर कहते है—

"मेरे बुज़ुर्गों को इसकी खबर नहीं शायद
पनप सका नहीं जो पेड़ बरगदों में रहा।
इश्क में राय बुज़ुर्गों से नहीं ली जाती
आग बुझते हुए चूल्हों से नहीं ली जाती"

बच्चों के लिए उनकी राय है कि—

"हवा के रुख पे रहने दो ये जलना सीख जाएगा
कि बच्चा लड़खड़ाएगा तो चलना सीख जाएगा
इन्हें अपनी ज़रूरत के ठिकाने याद रहते है
कहाँ पर है खिलौनों की दुकां बच्चे समझते है।"

दो भाईयों के प्यार और रंजिश को वो यूँ देखते है–

"अब मुझे अपने हरीफ़ों से ज़रा भी डर नहीं
मेरे कपड़े भाइयों के जिस्म पर आने लगे।
तन्हा मुझे कभी न समझना मेरे हरीफ़
एक भाई मर चुका है मगर एक घर में है"

"जो लोग कम हो तो कांधा ज़रूर दे देना
सरहाने आकर मगर भाई भाई मत करना
आपने खुलके मोहब्बत नहीं की है हमसे
आप भाई नहीं कहते है मियाँ कहते है
कांटो से बच गया था मगर फूल चुभ गया
मेरे बदन में भाई का त्रिशूल चुभ गया"

Friday, February 04, 2011

बशीर बद्र

भोपाल के डा. बशीर बद्र उर्दू के एक ऐसे शायर हैं जिनकी सहज भाषा और गहरी सोच
उन्हें गजल प्रेमियों के बीच एक ऐसे स्थान पर ले गई है जिसकी बराबरी कर पाना
मुश्किल है ।

"दुश्मनी जमकर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे
जब कभी हम दोस्त्त हो जायें तो शर्मन्द् न हों"

कभी कभी लोगों के दिल को पढ़ पाना कितना कठिन होता है । ऐसे ही लोगों के बारे में
बशीर साहब कहते हैं

"बहुत से लोग दिल को इस तरह महफूज रखते हैं
कोई बारिश हो ये कागज जरा भी नम नहीं होता"

और जब उनकी कलम से प्यार की रसभरी फुहार टूटती है तो देखिये ना नशा किस तरह
उतरता है

"कौन आया रास्त्त्त्ते आईनाखाने हो गए
रात रौशन हो गई दिन भी सुहाने हो गए"

"मेरी पलकों पर ये आँसू प्यर की तौहीन हैं
उसकी आँखों से गिरे, मोती के दाने हो गए"

और चलते चलते उनकी बेहद मशहूर पंक्तियाँ

"हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए
चरागों की तरह आखें जलें, जब शाम हो जाए

मैं खुद भी एहतियातन उस गली से कम गुजरता हूँ
कोई मासूम क्य्य्य्यों मेरे लिये बदनाम हो जाए

मुझे मालूम है उसका ठिकाना फिर कहाँ होगा
परिन्द् आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाए

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाए"

आँसुओं में धुली खुशी की तरह, रिश्ते होते हैं शायरी की तरह
जब कभी बादलों में घिरता है, चाँद लगता है आदमी की तरह
सब नजर का फरेब है वर्ना, कोई होता नहीं किसी की तरह
उदास आँखों से आँसू नहीं निकलते हैं, ये मोतियों की तरह सीपियों में पलते हैं
मैं शाह राह नहीं रास्त्त्त्ते का पत्थर हूँ, यहाँ सवार भी पैदल उतर कर चलते हैं
उन्हें कभी नहीं बताना मैं उनकी आँखें हूँ, वो लोग फूल समझकर मुझे मसलते हैं
ये एक पेड़ है आ इस से मिलकर रों लें हम, यहाँ से तेरे मेरे रास्ते बदलते हैं
कई सितारों को मैं जानता हूँ बचपन से, कहीं भी जाऊँ मेरे साथ साथ चलते हैं

बशीर बद्र जी की ये एक बेहद मशहूर गजल है ये ! इसके चंद शेर आप सब की खिदमत
में हाजिर हैं
कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बँधा हुआ
ये गजल का लहजा नया नया न कहा हुआ ना सुना हुआ ।
जिसे ले गई है अभी हवा, वो वर्क्क्क्क था दिल की किताब का
कहीं आँसुओं से मिटा हुआ, कहीं आँसुओ से लिखा हुआ ।
वर्क - पन्ना
कई मील रेत को काटकर, कोई मौज फूल खिला गई
कोई पेड़ प्यास से मर रहा, नदी के पास खड़ा हुआ ।
मौज - हवा
वो ही शहर हैं वो ही रास्ते, वो ही घर है और वो ही लान भी
मगर इस दरीचे से पूछना, वो दरख्त अनार का क्या हुआ ।

कुछ नये शेर जोड़ रहा हूँ जो मुझे पसन्द हैं :
---
ज़िन्दगी तूनें मुझे कब्र से कम दी है ज़मीं
पाँव फ़ैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है ।
---
जी बहुत चाहता है सच बोलें
क्या करें हौसला नहीं होता ।
---
कोई हाथ भी न मिलायेगा, जो गले लगोगे तपाक से
ये नये मिज़ाज का शहर है, ज़रा फ़ासले से मिला करो ।
---
इतनी मिलती है मेरी गज़लों से सूरत तेरी
लोग तुझ को मेरा महबूब समझते होंगे ।
---
वो ज़ाफ़रानी पुलोवर उसी का हिस्सा है
कोई जो दूसरा पहनें तो दूसरा ही लगे ।
---
लोग टूट जाते हैं एक घर बनानें में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलानें में।
---
पलकें भी चमक जाती हैं सोते में हमारी,
आँखो को अभी ख्वाब छुपानें नहीं आते ।
---
तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था.
फ़िर उस के बाद मुझे कोई अजनबी नहीं मिला ।
---
मैं इतना बदमुआश नहीं यानि खुल के बैठ
चुभनें लगी है धूप तो स्वेटर उतार दे ।

बद्र साहब की एक निहायत खूबसूरत गजल पेश है जिसे जगजीत सिंह ने गाया भी है ।

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे, वो बेवफा हो जाएगा ।
हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्त्त हो जाएगा ।
कितनी सच्चाई से, मुझसे जिंदगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा ।
मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तों
जहर भी इसमें अगर होगा, तो दवा हो जाएगा ।
सब उसी के हैं, हवा, खुशबू, जमीन- ओ- आस्माँ
मैं जहाँ भी जाऊँगा, उसको पता हो जाएगा ।

Wednesday, February 02, 2011

माँ

खट्टी चटनी जैसी माँ / निदा फ़ाज़ली
बेसन की सोंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ ,
याद आता है चौका-बासन, चिमटा फुँकनी जैसी माँ ।
बाँस की खुर्री खाट के ऊपर हर आहट पर कान धरे ,
आधी सोई आधी जागी थकी दुपहरी जैसी माँ ।
चिड़ियों के चहकार में गूँजे राधा-मोहन अली-अली ,
मुर्गे की आवाज़ से खुलती, घर की कुंड़ी जैसी माँ ।
बीवी, बेटी, बहन, पड़ोसन थोड़ी-थोड़ी सी सब में ,
दिन भर इक रस्सी के ऊपर चलती नटनी जैसी मां ।
बाँट के अपना चेहरा, माथा, आँखें जाने कहाँ गई ,
फटे पुराने इक अलबम में चंचल लड़की जैसी माँ ।

अहमद फ़राज़

Farz karo k,
Tum se sunder na hum ne koi dekha ho,

Farz karo k'
Ankh tumhari bin kajal bhi piyari ho,

Farz karo k'
Piyar tumhara mera jeevan bhar ho,

Farz karo k,

Dekh ke tum ko hum ne bhi dil hara ho,

Farz karo k,
Piyar main tere hum ko neend na ati ho,

Farz karo k,
Soorat teri din main bhi tarpati ho,

Farz karo k,
Bin tere na ik pal mujh ko rehna ho,

Farz karo k,
Ye sab mujhko such much tum se kehna ho............?
===========================

Tuesday, February 01, 2011

सूर्य कान्त त्रिपाठी निराला

तुम हमारे हो / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~
नहीं मालूम क्यों यहाँ आया
ठोकरें खाते हु‌ए दिन बीते ।
उठा तो पर न सँभलने पाया
गिरा व रह गया आँसू पीते ।

ताब बेताब हु‌ई हठ भी हटी
नाम अभिमान का भी छोड़ दिया ।
देखा तो थी माया की डोर कटी
सुना व' कहते हैं, हाँ खूब किया ।

पर अहो पास छोड़ आते ही
वह सब भूत फिर सवार हु‌ए ।
मुझे गफलत में ज़रा पाते ही
फिर वही पहले के से वार हु‌ए ।

एक भी हाथ सँभाला न गया
और कमज़ोरों का बस क्या है ।
कहा - निर्दय, कहाँ है तेरी दया,
मुझे दुख देने में जस क्या है ।

रात को सोते य' सपना देखा
कि व' कहते हैं "तुम हमारे हो
भला अब तो मुझे अपना देखा,
कौन कहता है कि तुम हारे हो ।

अब अगर को‌ई भी सताये तुम्हें
तो मेरी याद वहीं कर लेना
नज़र क्यों काल ही न आये तुम्हें
प्रेम के भाव तुर्त भर लेना" ।
============================