Tuesday, June 12, 2007

sach hee tho hai


"हम ये खता बार बार करते हैं
हम तेरा इंतज़ार करते हैं

तुम सज़ा बेपनाह देते हो
हम प्यार बेशुमार करते हैं

झा यूं तो बुझे बुझे से रहते हैं
पर शायरी धारदार करते हैं "

2 comments:

coolbhawna2003 said...

bohut acha likha hai....

GP said...

Hey dude////gude job done..
keep it up.....

when u free,also check my blogs at this link:
http://www.gurpreetsingh.infohuge.com/blogs
Regards
<<--GP-->>