Monday, February 27, 2012

ये सच है की तुम्हे मैंने अपनी जिंदगी माना
ये भी सच ही है कि- जिंदगी का कोई भरोसा नहीं!!!
बड़ा विरोधाभाष है...खैर...अपना ख्याल रखना ऐ जिंदगी!!!

No comments:

बचपन को समझें

चढ़ गया ऊपर रे, अटरिया पे लोटन कबूतर रे!! सरकाय लियो खटिया जाड़ा लगे, सैयां के साथ मडैया में, बड़ा मजा आया रजैया में, चोली के पीछे क्या है ... ...