Saturday, May 19, 2012

दूर जब तुम थे, स्वयं से दूर मैं तब जा रहा था,

पास तुम आए जमाना पास मेरे आ रहा था

तुम न थे तो कर सकी थी प्यार मिट्टी भी न मुझको,

सृष्टि का हर एक कण मुझ में कमी कुछ पा रहा था,

पर तुम्हें पाकर, न अब कुछ शेष है पाना इसी से

मैं तुम्हीं से, बस तुम्हीं से लौ लगाना चाहता हूं।

मैं तुम्हें, केवल तुम्हें अपना बनाना चाहता हूं॥ 

गोपालदास "नीरज"

No comments:

छोटी कविता

जनता जो भीड़ है भीड़ जो गुम है.. गुम बोले तो बेबस बेबसी यानी घुटन घुटन बोले तो अंत अंत तो मौत है भीड़ ने एक चेहरा चुना चेहरे पर एक पह...