Thursday, April 03, 2014

ज़िन्दगी ये खूबसूरत है बहुत, हो सके तो आँख भर के देख तू।
इक नया मानी तुझे मिल जायेगा, मेरे लफ़्ज़ों में उतर के देख तू।



No comments:

बचपन को समझें

चढ़ गया ऊपर रे, अटरिया पे लोटन कबूतर रे!! सरकाय लियो खटिया जाड़ा लगे, सैयां के साथ मडैया में, बड़ा मजा आया रजैया में, चोली के पीछे क्या है ... ...