Thursday, December 18, 2014

शबाना आज़मी

शबाना आज़मी
खुशशक्ल भी है वो, ये अलग बात है 
हमको ज़हीन लोग हमेशा अज़ीज़ थे- जावेद अख्तर 




#Shabana Azmi, # Javed Akhtar, # Kaifi Azmi

No comments:

छोटी कविता

जनता जो भीड़ है भीड़ जो गुम है.. गुम बोले तो बेबस बेबसी यानी घुटन घुटन बोले तो अंत अंत तो मौत है भीड़ ने एक चेहरा चुना चेहरे पर एक पह...