Friday, December 19, 2014

मुनव्वर राना

                                  महबूब शायर मुनव्वर राना को साहित्य अकादमी मिलने पर बहुत बधाई !



                                                  थकी-मांदी हुई बेचारियाँ आराम करती हैं
                                                 न छेड़ो ज़ख़्म को बीमारियाँ आराम करती हैं

                                                  सुलाकर अपने बच्चे को यही हर माँ समझती है
                                                 कि उसकी गोद में किलकारियाँ आराम करती हैं

                                                 किसी दिन ऎ समुन्दर झांक मेरे दिल के सहरा में
                                                 न जाने कितनी ही तहदारियाँ आराम करती हैं

                                               अभी तक दिल में रोशन हैं तुम्हारी याद के जुगनू
                                                 अभी इस राख में चिन्गारियाँ आराम करती हैं

                                              कहां रंगों की आमेज़िश की ज़हमत आप करते हैं
                                                    लहू से खेलिये पिचकारियाँ आराम करती हैं                                                                                                                                                                                                                                                                                         - मुनव्वर राना



                                                  सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं
                                              हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं

No comments:

छोटी कविता

जनता जो भीड़ है भीड़ जो गुम है.. गुम बोले तो बेबस बेबसी यानी घुटन घुटन बोले तो अंत अंत तो मौत है भीड़ ने एक चेहरा चुना चेहरे पर एक पह...