Thursday, January 08, 2015

मुझको भी एक अमित शाह चाहिए


                                                सत्ता, ताकत और रूतबा चाहिए...
                                                मुझको भी एक अमित शाह चाहिए...
                                                कि सर झुका के मुझे कोई साहेब कहे...
                                                 आडवाणी सरीखा मौन सब सहे...
                                                 सर्दियों में थामे चाय की केटली...
                                                  हो बगल में खड़ा कोई जेटली...
                                                राज़दार हो न हो राजनाथ चाहिए...
                                               मुझको भी एक अमित शाह चाहिए... हीरेंद्र





No comments:

छोटी कविता

जनता जो भीड़ है भीड़ जो गुम है.. गुम बोले तो बेबस बेबसी यानी घुटन घुटन बोले तो अंत अंत तो मौत है भीड़ ने एक चेहरा चुना चेहरे पर एक पह...