Thursday, January 08, 2015

मुझको भी एक अमित शाह चाहिए


                                                सत्ता, ताकत और रूतबा चाहिए...
                                                मुझको भी एक अमित शाह चाहिए...
                                                कि सर झुका के मुझे कोई साहेब कहे...
                                                 आडवाणी सरीखा मौन सब सहे...
                                                 सर्दियों में थामे चाय की केटली...
                                                  हो बगल में खड़ा कोई जेटली...
                                                राज़दार हो न हो राजनाथ चाहिए...
                                               मुझको भी एक अमित शाह चाहिए... हीरेंद्र





No comments:

हीरेंद्र की गुगली यानी मस्ती का डोज़!

इस हिस्से में पढ़िये कुछ ऐसी ही दिलचस्प गुगली. क्योंकि आखिरी पंक्ति में आप जान पायेंगे कि आखिर बात किसकी हो रही थी!  #गुगली 1 पिछले सात ...