Friday, January 09, 2015

उसकी आँखें, उसकी बातें, उसकी यादें, उसके ख्वाब




एक नादान मोहब्बत का बस इतना सा हिसाब,
चंद शेर, चार खत और कुछ सूखे गुलाब...
एक ज़िन्दगी जी लेने के लिए इतना काफी है,
उसकी आँखें, उसकी बातें, उसकी यादें, उसके ख्वाब- हीरेंद्र

No comments: